वात रोग की, होम्योपैथिक दवा, एलोपैथिक दवा, दवा पतंजलि, आयुर्वेदिक मेडिसिन और उपचार | medicine patanjali, Ayurvedic medicine and treatment of Vata disease in Hindi.

वास्तव में वात रोग क्या होता है और वात, पित्त कफ का होम्योपैथिक इलाज के अलावा होम्योपैथिक दवा और वात रोग का, दवा पतंजलि मे साथ हि मेडिसिन एवं अंग्रेजी



भारत ऐसे देशों में 38 प्रतिशत से लेकर 42 प्रतिशत लोग वात रोग की दवा का होम्योपैथिक इलाज के लिए क्लीनिक जाते हैं। ऐसे ही कई लोग गूगल इंटरनेट कनेक्शन मोबाइल के माध्यम से वात रोग की दवा पतंजलि मे और वात रोग की, एलोपैथिक दवा, वात रोग, क्या होता है ?, के लिए तेल,घरेलू उपचार, वात नाशक चूर्ण एवं वात रोग की पहचान के साथ मे कुछ वात विकार या बादी हटाने की दवा और वात रोग की आयुर्वेदिक मेडिसिन से संबंधित सभी जानकारी बताएं हर जानना चाहते हैं। तो पढ़िए वात रोग के बारे में सभी जानकारी इन हिंदी में ।



वात रोग क्या होता है एवं क्या है । ( What is gout and what is it? )



वात रोग अनगिनत बीमारियों को सम्मिलित करके दिया गया रोग का नाम है, जिसमें कई प्रकार की शरीर की हड्डियों एवं मांसपेशियों से संबंधित बीमारियां शामिल है । अर्धांग बात, पैरालिसिस, अर्थराइटिस, दर्द बना रहना आदि । इनमें शामिल रोग के कई उपनाम होता है। वात रोग को osteoarthritis Disease भी कहते हैं । शरीर की वायु या वात विकार या बादी हटाने की दवा के बारे में कुछ जानकारी हिंदी में बता रहा हूं । तो कृपया इन टू हिंदी डॉट कॉम को Follow जरूर करें । ( vaat rog kya hai )



वात रोग की पहचान और लक्षण इन हिंदी। ( gout disease identification and symptoms in Hindi. )



सभी प्रकार के रोग में हर किसी ना किसी तरह का लक्षण और पहचान करने योग्य मौजूद होता है। ठीक उसी प्रकार वात रोग मे उत्पन्न बीमारी शरीर में झुनझुनाहट होना, अंग का कार्य नहीं कर पाना, आधे शरीर में लकवा होना,घुटनों में दर्द हो जाना, कमर में दर्द या शरीर के किसी भी अंग में दर्द बना रहना एवं जोड़ों में दर्द जमे रहना आदि वात रोग को पहचानने के लिए और इसके लक्षण जानने के प्रकार है इन हिंदी में । साथ हि वात रोग से होने वाली बीमारियां हैं ये सभी ।



वात रोग का अंग्रेजी । 


वात रोग का अंग्रेजी मे : Arthritis .



वात रोग कैसे होता है और होने का कारण इन हिंदी। ( How does Vata disease occur and the reason for its occurrence in Hindi. )



कोई भी बीमारी या रोग हमारे शरीर में किसी कारण एवं हमारी गलतियां की वजह से ही उत्पन्न होता है । वात रोग जैसा रोग होने का मुख्य कारण natural colls को रोकना मतलब आपको टॉयलेट जाना है पर आप जा नहीं रहे हैं, आपको सोने का मन है पर आप सो नहीं रहे, आपको उल्टी आ रहा है पर आप कर नहीं रहे, बहुत स्पीड ली और लौड्ली बोलना यह सभी नेचुरल कॉल्स को रोकने का मतलब साफ है कि आप बात रोग को होने का बढ़ावा दे रहे हैं। वायु या वात विकार या बादी जैसा रोग यदि आपके शरीर में ग्रोथ कर जाता है, तो ऐसे में 60 प्रकार की बीमारी धीरे-धीरे होने लगती है।




वात, पित्त कफ रोग का इलाज बताएं या घरेलू उपचार इन हिंदी । ( Tell the treatment of Vata, Pitta Kapha disease or home remedies in Hindi. )



कई है प्रकार के वात रोग का घरेलू उपचार इन हिंदी मे, जिसका आप खुद से अपने घरों में इन कुछ उपचारों का उपयोग कर सकेंगे। ऑयली मसाज करें, खाने में फैटी पदार्थ का इस्तेमाल करें, हार्ड वर्क करें जिससे आपकी बॉडी पर स्वेटिंग उत्पन्न हो, हल्के गर्म पानी से स्नान करें, नाइट स्लीपिंग के समय बादाम रोगन नाक में दोनों साइड एक एक बूंद डालें, वात रोग यदि ज्यादा बढ़ा हुआ हो तो आयुर्वेद में अजवाइन और जीरे का घरेलू उपयोग बताया गया है, आप अपने खाने के दौरान अजमाइन या जीरे का इस्तेमाल कर सकते हैं।



वात रोग की आयुर्वेदिक दवा बताएं एवं मेडिसिन इन हिंदी। ( Tell ayurvedic medicine for Vata disease and medicine in Hindi. )



वायु रोगों के समाधान के लिए, आयुर्वेद में वात रोग के लिए बहुत ही लाभकारी और महत्वपूर्ण औषधि बताई गई है। Ajmodadi Churna आयुर्वेदिक दवा जो 14-15 जड़ी बूटियों से तैयार जंगली अजमोद अर्धा है, यह अन्य प्रकार के रोग का शिकार करने का मेडिसिन है। जोड़ों में दर्द एवं पेट में बनने वाले वायु के गोले और हड्डियां खोखली हो जाने वाली रोगों के लिए यह आयुर्वेदिक दवा बहुत ही फायदे दिलाता है। (vaat rog ayurvedic medicine)



वात रोग की दवा पतंजलि मे मेडिसिन । ( Medicine for Vata disease Medicine in Patanjali. )




वात, पित्त कफ या जोड़ों की दर्द एवं गठिया जैसे बीमारियों को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक दवा patanjali पीड़ान्तक वटी जो अजमाइन, अश्वगंधा,  रासना, शिलाजीत और प्रवाल पेस्टी देसी जड़ी बूटियों से तैयार की गई एक पतंजलि आयुर्वेदिक मेडिसिन है । यह वात रोग जैसे बीमारी से मुक्त करने के लिए बहुत ही लाभकारी दवा है। सुबह और शाम खाना खाने के बाद एक एक गोली खाने से वायु दोस जैसी रोग मुक्त होने लगती है। ( Patanjali vaat rog medicine )




वात रोग की होम्योपैथिक दवा और मेडिसिन । ( Homeopathic medicine and medicine for gout. )



कफ वात और पित्त यह रोग कई सारे लोगों में उपस्थित होती है। इन बीमारियों से दूर और छुटकारा पाना बहुत ही इजी तरीका है। होम्योपैथिक दवा Kali Muriaticum 6x medicine वात रोग की बहुत ही बेहतर होम्योपैथिक दवा है। इंफेक्शन, सूजन, कमर दर्द, कफ और टॉन्सिल जैसे वात पित रोग के लिए यह मेडिसिन बहुत ही अच्छा माना जाता है। 6 गोली आधे कफ गुनगुने पानी के साथ एक बार सुबह एक शाम और एक बार दोपहर मे लेने से रोग जड़ से ठीक हो जाएगी।





नोटिफिकेशन


किसी भी दवा-: गठिया, बुखार, दर्द, सर्दी खासी, एलर्जी आदि का सेवन करने से पहले अपना चेकअप किसी बेहतर पहचान के डॉक्टर से जरूर कराएं।



तो जैसा कि दोस्तों आपने जाना की वात, पित्त कफ का होम्योपैथिक इलाज, शरीर की वायु या वात विकार या बादी हटाने की दवा in hindi, पित्त कफ का घरेलू उपचार, वात रोग को दूर करने के उपाय एवं वात रोग के लक्षण और कई अन्य लोग मौजूद हैं जिन का कुछ प्रश्न होते हैं -: वात से होने वाले रोग, वात रोग कैसे होता है ? वात रोग में क्या खाना चाहिए ? वात रोग की एलोपैथिक दवा एवं अन्य मैंने अपनी जान तक बहुत सारी चीजें समझाना को बताने की कोशिश की है। इस पोस्ट के जरिए अगर पसंद आई हो तो शेयर जरूर और into Hindi को Follow जरूर करे ।




पोस्ट लेखक : सूरज
पोस्ट पब्लिशर : मोमेंट मेहरा

आपको ये पोस्ट पसंद आ सकती हैं

  1. To insert a code use <i rel="pre">code_here</i>
  2. To insert a quote use <b rel="quote">your_qoute</b>
  3. To insert a picture use <i rel="image">url_image_here</i>
गलत शब्दों वाले Comments नहीं करें ।